SK Vision Event Watch: National Unity  Day (31 October 2023)

राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर 2023 (National Unity  Day – 31 October 2023)

किसी भी राष्ट्र की समृद्धि, उन्नति एवं शांति के लिए यह आवश्यक है की हम उस राष्ट्र की गरिमा को बनाये रखने का प्रयत्न करें।हम जब भी किसी राष्ट्र की बात करते है तो हमारे सामने ऐसे राष्ट्र की छवि आती है जो अनेकता में एकता का प्रतिक है। 

प्रत्येक देशवासियों को समानता एवं एक दूसरे का सम्मान करने की छवि को दर्शाता है।ऐसा देश जो अपने देश के प्रत्येक वासियों के साथ-साथ अपने अतिथियों का भी सम्मान करता है वह देश ” भारत ” है।  

राष्ट्र की इसी एकता का सम्मान करने के लिए 31 अक्टूबर को “ राष्ट्र एकता दिवस “के रूप में मनाया जाता है। 

राष्ट्रीय एकता दिवस  ( National Unity Day ) :-

31 अक्टूबर 2014 को सरदार वल्लभभाई पटेल की 148 वीं जयंती के अवसर पर भारत सरकार द्वारा इस दिन को ” राष्ट्रीय एकता दिवस ” के रूप में मानाने का निर्णय लिया गया।

इस दिन , भारत के ” लौह पुरुष ” कहे जाने वाले – सरदार वल्लभभाई पटेल के द्वारा किये गए कार्यों एवं उनकी ” विविधता में एकता ” की भावना को सम्मान के साथ याद किया जाता है।

इस दिन लोगों को एकजुट होकर रहने एवं समाज के उत्थान के लिये उनके विचारों से अवगत करा कर राष्ट्रहित के लिए कार्य करने को प्रेरित किया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस विविधताओं में एकता की भावना को प्रदर्शित करने एवं इस भावना को सम्मान देने के रूप में मनाई जाती है।

इस दिन राष्ट्रनिर्माण एवं एकीकरण की भावना को बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जाते है।

SK Vision Foundation भी राष्ट्र एकता एवं अखंडता की इस भावना का पूर्ण समर्थन करती है।

राष्ट्रीय एकता दिवस का उद्देश्य एवं महत्त्व(Purpose and importance of National Unity Day) :-

राष्ट्र को भारत के ” लौह पुरुष ” कहे जाने वाले महान व्यक्तित्व के धनि एवं राष्ट्र को एकता के एक सूत्र में बांधने वाले ” सरदार वल्लभभाई पटेल ” के द्वारा किये गए कार्यों से अवगत कराने के उद्देश्य से इस दिवस की घोषणा की गई।

राष्ट्रीय एकता दिवस की घोषणा भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वर्ष 2014 में सरदार पटेल के जन्म दिवस के अवसर पर की गई।

अतः सरदार पटेल द्वारा किये गए राष्ट्र निर्माण एवं एकीकरण के कार्यों को याद करने एवं उनका अनुसरण करने के उद्देश्य से इस दिवस की शुरुआत की गई ।

राष्ट्रीय एकता दिवस महत्व को हम निम्न प्रकार से देख सकते हैं:-

  • इस दिन का उद्देस्य सरदार पटेल के राष्ट्र के प्रति दिए गए योगदान को याद करके उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करना है।
  • यह देश की अखंडता एवं एकता के महत्त्व को दर्शाता है।
  • यह देश में व्याप्त विभिन्न संस्कृति , भाषाओँ एवं परम्पराओं के बिच एकजुटता लाने पर ज़ोर देता है।
  • यह देश की विभिन्नता में एकता के शुत्र को प्रोत्साहित करता है।
  • यह जाती-पाती, आमिर-गरीब आदि के भेद भाव से ऊपर उठ कर लोगों को एकता के एक शुत्र में बांधने पर ज़ोर देता है।
  • यह सरदार पटेल द्वारा दिखाए गए मार्ग का अनुसरण कर राष्ट्र निर्माण के लिए प्रेरित करता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस का इतिहास ( History of National Unity Day):-

राष्ट्रीय एकता दिवस की शुरुआत 31 अक्टूबर 2014 को हुई। वर्ष 2014 में भारत सरकार ने 31 अक्टूबर को भारत के ” लौह पुरुष ” कहे जाने वाले , सम्पूर्ण राष्ट्र को एकता के एक शुत्र में बांधने वाले ” सरदार वल्लभ भाई पटेल ” की जयंती के रूप में मनाने का निर्णय किया गया।

31 अक्टूबर 2018 को राष्ट्रीय एकता दिवस के दिन सरदार वल्लभ भाई पटेल की 143 वीं जयंती के अवसर पर भारत सरकार ने सरदार वल्लभभाई पटेल के सम्मान में गुजरात में उनकी एक स्टैच्यू का निर्माण कराया। जिसका नाम ” स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी ” रखा गया।

यह दुनिया की सबसे ऊँची मूर्ति के रूप में विख्यात है एवं इसे शंघाई सहयोग संगठन के द्वारा आठवां विश्व आश्चर्य के रूप में घोषित किया गया।

सरदार पटेल ने अपने अथक प्रयास से देश के कई बिखरे राज्यों को एक राष्ट्र के रूप में लाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। एकता दिवस नाम रखने का कारण यह भी था की सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्र एकता पर विशेष बल देते थे। उन्होंने देश को एकीकृत करने के लिए कई कार्य किये है।

सरदार वल्लभभाई पटेल ( Sardar Vallabh Bhai Patel) :-

बहुमुखी प्रतिभा के धनि सरदार वल्लबभाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 में गुजरात के नडियाद में हुआ था । सरदार पटेल का भारत की राजनीती में भी महत्त्वपूर्ण स्थान है। यह स्वतंत्र भारत के प्रथम उप-प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री थे।

वल्लभभाई पटेल के नाम में सरदार जुड़ने का कारण बारडोली सत्याग्रह है। पटेल को बारडोली में सत्याग्रह करने के कारण सर्वप्रथम उन्हें ” बारडोली के सरदार ” के नाम से जाना गया, बाद में उन्हें ” सरदार ” की उपाद्धि प्राप्त हुई।

पटेल को ‘भारत का बिस्मार्क‘ और ‘लौहपुरुष‘ भी कहा जाता है। सरदार वल्लभभाई पटेल अपने गृह मंत्री के पद्ध पर रहते हुए 562 देसी रियासतों को अपने दृढ़ निश्चय से भारत में विलय कर भारतीय एकता के निर्माण में एक अहम भूमिका निभाई । जिस कारण वे ” लौह पुरुष ” के नाम से विख्यात हुए।

15 दिसंबर 1950 को सरदार पटेल ने इस दुनिया को अलविदा कहा।

SK Vision Foundation द्वारा राष्ट्र एकता दिवस का आयोजन (National Unity Day organized by SK Vision Foundation) :-

SK Vision Foundation समाज कल्याण एवं राष्ट्र निर्माण के लिए कार्य करने वाली एक गैर सरकारी संस्था है। यह संस्था जरूरतमंद बच्चों एवं विद्यार्थयों के लिए कई कार्य करती है।

जिसके अंतर्गत संस्था ने स्कूलों में कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएं करवाएं है। इसी प्रकार का एक कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता दिवस उपलक्ष में 31 अक्टूबर 2023 को आयोजित कराया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन कनॉट प्लेस में स्थित एक अनाथ आश्रम “बाल सहयोग ” नामक संस्था में आयोजित किया गया।

इस दौरान वहां स्थित अनाथ बच्चों के साथ विभिन्न प्रकार की खेल प्रत्योगिता का आयोजन कराया गया। साथ ही उनको स्वास्थय-स्वच्छता पर जानकारी देने के लिए एक छोटा सा आयोजन भी किया गया। जिसमें बच्चों ने बड़े उत्साह से भाग लिया एवं आनंद लिया।

कार्यक्रम के अंत में बच्चों को पुरस्कर प्रदान किया गया एवं वहां के अधिकारीयों को सम्मान चिन्ह प्रदान किया गया एवं जलपान विस्तृत करके आयोजन का समापन किया गया।

इन कार्यक्रमों को निम्नलिखित उद्देश्य से आयोजित किया गया था :-

  • बच्चों को अपने स्वास्थय का ध्यान कैसे रखा जाये इसकी जानकारी देना।
  • बच्चों को आनंद प्रदान करना।
  • उनको विभिन्न प्रकार के प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • बच्चों को स्वास्थय एवं स्वत्छता की जानकरी देना।
  • बच्चों में आत्मविश्वास को बढ़ावा देना।

निष्कर्ष :-

इस लेख के माध्यम से लोगों को राष्ट्रीय एकता दिवस की जानकारी प्रदान की जा रही है। राष्ट्रीय एकता दिवस के इतिहास की जानकारी देते हुए इसके महत्व को दर्शाने की कोशिश की गई है।

इस लेख के माध्यम से राष्ट्रीय एकता के जनक सरदार वल्लभ भाई पटेल के जीवन एवं उनके द्वारा किये गए कार्यों की जानकारी देते हुए लोगों को राष्ट्र निर्माण के लिए प्रेरित करने की कोशिश की गई है।

इस लेख के माध्यम से SK Vision Foundation द्वारा किये गए कार्यों को भी उल्लेखित किया गया है।

FAQ

१) राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता है ?
भारत सरकार द्वारा साल 2014 में सरदार वल्लभभाई पटेल को श्रद्धांजलि देने के उद्देश्य से राष्ट्रीय एकता दिवस की शुरुआत की गई। इस दिन सरदार पटेल द्वारा किये गए असाधारण कार्यों को याद कर, नागरिकों को उनके दिखाए गए रास्तों पर चलने के लिए प्रेरित किया जाता है।

२) राष्ट्रीय एकता क्या अर्थ है ?
भारत को अनेकता में एकता के प्रतिक के रूप में जाना जाता है। यह ऐसे राष्ट्र को दर्शाता है जहाँ विभिन्न जाती , संस्कृति , समाज के लोगों के रहते हुए भी उनमें सामंजस्य एवं एकता की भावना देखने को मिलती है। एकता की यही भावना लोगों को एक सूत्र में बांधने का काम करती है।

३) राष्ट्रीय एकता दिवस किसकी स्मृति में मनाया जाता है?
स्वतंत्र भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री एवं गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्म दिवस के अवसर पर प्रत्येक वर्ष 31 अक्टूबर को ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ मनाया जाता है । इस दिन सरदार पटेल को स्मरण कर उनके कार्यों को याद किया जाता है।

४) सरदार पटेल कौन थे उनका मुख्य योगदान क्या था?
सरदार पटेल एक स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने स्वतंत्रता की लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया था , जिसके कारण उन्हें भारत का ” लौह पुरुष ” कहा जाता है। 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नाडियाद में इनका जन्म हुआ था।

५) सरदार पटेल क्यों प्रसिद्ध है?
भारत के एकीकरण में सरदार पटेल का योगदान उल्लेखनीय है। अपने योगदान के लिए उन्हे भारत का ‘लौहपुरुष’ के रूप में जाना जाता है। सरदार पटेल का सबसे बड़ा योगदान 562 छोटी-बड़ी रियासतों को भारतीय संघ में विलीन करके भारतीय एकता का निर्माण करना था एवं राष्ट्र को एकीकृत करना था । विश्व के इतिहास में इनके जैसा कोई व्यक्ति नई हुआ जिसने इतनी बड़ी संख्या में राज्यों का एकीकरण करके राष्ट्र निर्माण करने का साहस किया हो।